किचन में किस दिशा में मुख रखकर खाना बनायें, ताकि घर में बनी रहे सुख-समृद्धि

Vastu Tips For Home : दोस्तों आज के इस नए दौर में हर व्यक्क्ति अपना खुद का ,अपने सपनों का आशियाना ,घर बनाना चाहता है| अपने सपनों के घर का ख़्वाब पूरा करने के लिए वह दिन -रात कड़ी मेहनत करता है| जिसमें वह अपने माता -पिता तथा बच्चों के साथ खुशी-खुशी रह सके|

लेकिन क्या हो, अगर घर बनाने के बाद उसमें निवास करने पर वह सुखी नहीं रह पाए| और उसे कई तरह की परेशानियाँ घेर ले |तो आज इस लेख में हम घर बनाने से पहले घर के अहम् हिस्से कीचन को वास्तु के हिसाब से बनवाने के बारे में कुछ टिप्स आपसे साझा करेंगे |

Vastu Tips For Home:Kichan Mein Kis Disha Mein Muh Karke Khana Banana Sahi Hai:

दोस्तों किचन घर का सबसे महत्वपूर्ण भाग होता है| इसलिए घर का निर्माण करते समय, हम उम्मीद करते हैं, कि जब हम इसमें निवास करेंगे, तो अपना जीवन खुशी-खुशी बिताएंगे| इसलिए घर का निर्माण करते समय हमें किचन से जुड़े वास्तु नियम का ध्यान रखना बेहद जरूरी है| तभी आपके घर का अन्न भंडार हमेशा भरा रहेगा|

इसके लिए वास्तु विशेषज्ञों, ज्योतिषियों ने हमेशा इस बात पर जोर दिया है,की किचन में भोजन बनाते समय भोजन बनाने वाले का मुख पूर्व दिशा की ओर होना चाहिए| तथा रसोई में पीने का पानी उत्तर-पूर्व दिशा में स्थापित करना चाहिए|

हम खाना पकाने के लिए अग्नि का उपयोग करते हैं, अग्नि हमारे स्वास्थ्य प्रसिद्धि और समृद्धि से जुड़ी हुई है, इसलिए वास्तु में अग्नि तत्व का संचार ठीक से हो इसके लिए रसोई को आग्नेय कोण में रखना वास्तु सम्मत माना गया है|

आपके घर में रसोई वह स्थान है, जहां हर तरफ की ऊर्जा निहित होती है| इस स्थान पर घर के निवासियों के लिए पौष्टिक भोजन बनाया जाता है| और अगर भोजन वास्तु की सही दिशा को ध्यान में रखकर बनाया जाए तो घर में हमेशा सुख समृद्धि बनी रहती है|

वास्तु के अनुसार दक्षिण दिशा की ओर मुख करके खाना बनाना सही नहीं माना जाता है| इसकी वजह वास्तु शास्त्र के अनुसार इसे यम की दशा मानी जाती है| अगर इस दिशा में मुंह करके खाना बनाते हैं, तो परिवार के सदस्यों पर स्वास्थ्य का असर पड़ सकता है, और घर की आर्थिक स्थिति भी खराब हो सकती है|

किस दिशा में हो किचन :

वास्तु अनुसार घर बनवाते समय हमेशा इस बात का ध्यान रखना चाहिए कि आपकी रसोई आग्नेय कोण (दक्षिण-पूर्व) दिशा में हो| इससे जीवन में खुशी आती है| लेकिन कभी भी रसोई का निर्माण-उत्तर-पूर्व(ईशान कोण ) दिशा में नहीं करना चाहिए| क्योंकि इस दिशा में हल्की चीजों और पूजा पाठ का स्थान बनवाना ज्यादा सही रहता है|

खाना बनाते समय किस दिशा में हो मुख:

रसोई घर का प्रभाव परिवार की सेहत के साथ ही उसके जीवन पर भी पड़ता है| ऐसे में सबसे जरूरी है कि खाना बनाते समय दिशा का ध्यान रखें| खाना बनाते समय हमेशा ध्यान रखें कि आपका मुख पूर्व दिशा की ओर होना चाहिए| साथ ही खाना बनाने वाले की पीठ के पीछे रसोई घर का दरवाजा ना हो|

टूटे बर्तन के इस्तेमाल से बचे : रसोई घर में टूटे बर्तनों को नहीं रखना चाहिए | कई बार कुछ बर्तन थोड़े से खराब हो जाते हैं, उन्हें हम प्रयोग में लेते रहते हैं, लेकिन हमें ऐसा करने से बचना चाहिए| और ऐसे बर्तनों में ना तो खाना पकाना चाहिए और ना ही परोसना चाहिए|

इस दिशा में मुख करके कभी भोजन नहीं बनना चाहिए:

ज्योतिष शास्त्र की माने तो कभी भी दक्षिण दिशा की ओर मुख करके खाना नहीं बनना चाहिए| ऐसा करने से खाना बनाने वाले और खाना खाने वाले दोनों के जीवन में निर्धनता आती है| ऐसी मान्यता है कि पश्चिम दिशा में मुख करके खाना बनाने से जीवन में कलह बढ़ती है| इसके अलावा ऐसी स्त्रियों का दाम्पत्य जीवन में भी परेशानियां खड़ी होती है| और हमेशा कष्टमय ही रहता है|

खाना बनाने के लिए इस दिशा को माना जाता है सबसे शुभ:

सब परेशानियों से मुक्त पूर्व दिशा को माना गया है| इस दिशा में मुख करके बनाया हुआ खाना सबसे ज्यादा पॉजिटिव ऊर्जा से भरा हुआ होता है| इस दिशा में बनाया गया भोजन घर में सुख समृद्धि एवं संपन्निता लाता है|

वास्तु के लिए रसोई से जुड़ी इन बातों का ध्यान रख सकतें है 

  • रसोई के लिए वास्तु के अनुसार लाल और पीले रंग का इस्तेमाल पेंटिंग में करना उचित है|
  • अगर आपका किचन दक्षिण या फिर दक्षिण पूर्व दिशा में है, तो आपको कल या नीले रंग का स्लैब उपयोग नहीं करना चाहिए| इसकी जगह आप ग्रेनाइट या मार्बल का स्लैब लगा सकते हैं|
  • रसोई घर में माता अन्नपूर्णा का एक चित्र लगा सकते हैं| इसके साथ ही फलों और सब्जियों से भरा एक सुंदर सा चित्र अपनी रसोई में लगाएं |
  • ऐसी मान्यता है कि रसोई में माता अन्नपूर्णा और फलों व सब्जियों के चित्रों को लगाने से घर में धन-धान्य की कभी कमी नहीं रहती है | एवं घर में सुख-समृद्धि बनी रहती है|
  • घर में बाथरूम और किचन कभी भी एक दूसरे के आसपास नहीं बनना चाहिए| अगर ऐसा है, तो उपयोग न होने पर बाथरूम का दरवाजा हमेशा बंद रखना चाहिए|

इसे भी पढ़ें : 27 February 2024 Current affairs in Hindi 

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Scroll to Top